Saturday, October 21, 2017

पंथी को छाया नहीं...

 मुझे याद है जब पांचवी छठी जमात में हम लोग स्कूल पैदल आया जाया करते थे तो रास्ते में एक आर्मी वालों की कालोनी पड़ती थी...उन बंगलों और बाहर सड़क के बीच एक कंटीली तार भी लगी हुई थी ..लेेकिन कुछ घरों के बाहर बोर्ड लगे हुए थे ...कुत्तों से सावधान..Beware of Dogs!

इस तरह के बोर्ड देख कर बड़ा अजीब सा लगता था .. कुछ ज़्यादा समझ तो थी नहीं ..लेकिन उस कंटीली तार के बावजूद भी जब हम लोग पैदल उन घरों के सामने से गुज़रते थे तो कुछ डर तो रहता ही था कि पता नहीं कैसे कुत्ते होंगे ...अगर इस तरह की चेतावनी लिखी हुई है ... और क्या होगा अगर वे कंटीली बाड़ में से भाग कर बाहर आ जायेंगे!

कुछ दुकानों के बाहर भी देखा कि रात में फुटपाथ पर इस तरह से लोहे के नुकीले कीलों की एक व्यवस्था कर देते हैं जिससे कि कोई वहां सोना तो दूर उधर से गुज़रने की भी हिम्मत न कर पाए...

लेकिन गांवों में, कसबों में जहां बडे़ बड़े पेड़ लगे होते हैं उन के आसपास लोगों ने छोटे मोटे प्लेटफार्म ज़रूर बनाए होते हैं ताकि लोग वहां बैठें, थोड़ा सुस्ता लें....कईं जगहों पर तो हम देखते हैं कि वहां गप-शप के अड़्डे बन जाते हैं...साथ में ही एक दो चाय की गुमटी अकसर होती है...एक नाई, एक मोची, एक कोई समोसे-जलेबी वाला...और पास ही दो चार खस्ता हालत में बैंच पड़े होते हैं...अखबार के आठ पन्ने कम से कम १० लोगों के हाथ में होते हैं....

ऐसा लगता है छोटे शहरों कस्बों में जैसे बड़े बडे़ भीमकाय पेढ़ राहगीरों को न्यौता दे रहे हों कि आओ, हमारी छांव में थोड़ा अाराम करो, कुछ हमारी सुनो और अपना हाल भी सुनाओ.....

लेकिन यह मैंने क्या देखा बंबई के एक बेहद पॉश एरिया में ...जहां पर रहने वाले बाशिंदे वैसे तो अधिकतर पेज-थ्री पर दिखते हैं ...लेकिन यहां के पेड़ों के ठीक नीचे और आसपास कुछ इस तरह के दृश्य नज़र आए कि आप के साथ शेयर करने की इच्छा हुई ....









देखिए...अगर आप पेडो़ं के नीचे फिक्स किए गये नोकदार पत्थरों की तरफ़ ध्यान ने दें तो सब कुछ कितना सुहाना और खुशगवार दिखाई पड़ता है यहां.....



ध्यान मुझे यह भी आ रहा है कि देश के कुछ लोग गर्मी के दिनों में घरों के बाहर ठंड़े पानी का प्रबंध कर देते हैं ...और कुछ नहीं तो पानी के कुछ मटके ही गीले कपड़े से ढक कर रख देते हैं ... ताकि लू के थपेड़ों से बेहाल राहगीरों को कुछ राहत तो मिल पाए.......लेकिन बंबई  के इस पॉश एरिया में तो माजरा ही कुछ और दिखा....

मुझे नहीं पता कि ऐसा क्यों है इस एरिया में .... कुछ तो कारण रहा ही होगा...जिसे मैं नहीं जानता .. लेकिन फिर भी मुझे यह बहुत अजीब लगा कि हर छायादार पेड़ के नीचे और आसपास हर जगह पर नुकीले पत्थर फिक्स कर दिए जाएं ताकि कोई इन के पास फटकने की हिम्मत ही न जुटा पाए...

कबीर जी का वह दोहा याद आ गया ...
"बडा़ हुआ तो क्या हुआ...जैसे पेड़ खजूर
पंथी को छाया नहीं, फल लागे अति दूर "

गीत तो बहुत से याद आ रहे हैं इस समय ......लेकिन इसी लम्हे पर इस गीत का ध्यान आ गया है ...और कुछ ज़्यादा मैं इस विषय पर कुछ कहना-लिखना नहीं चाहता ....समझदार को ईशारा ही काफ़ी होता है ..